वरुण गांधी को लेकर क्या भाजपा करने वाली है नया प्रयोग ?,सियासी गलियारों में मच जाएगी हलचल, देखे रिपोर्ट।

0 1,848

- Advertisement -

आप सभी दर्शको को होली की ढेरों बधाई,मैं कपिल देव शुक्ल और आप देख रहे हैं के. डी न्यूज़ यूपी चैनल।

लोकसभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश से अबतक बीजेपी ने कुल 63 प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर दिया है। पहली सूची में 51 नाम थे, वहीं दूसरी सूची में 13 नाम हैं।इसी सूची के जारी होते ही
वरुण गांधी को लेकर एक चर्चा छिड़ी गई है।, अब क्या होगा वरुण गांधी का।

- Advertisement -

https://youtu.be
*वरुण गांधी को लेकर भाजपा का बड़ा प्लान?,सियासी गलियारों में मचेगी हलचल।*

(अंदर खाने में अभी तक चर्चा थी कि भारतीय जनता पार्टी ने अपनी बहुप्रतीक्षित लोकसभा उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है। दरअसल मेरठ, गाजियाबाद, सुल्तानपुर, बरेली, पीलीभीत समेत यूपी की कई ‘हॉट’ सीटों पर उम्मीदवारी का ऐलान होना था।इसमें सबसे ज्यादा नजर सुल्तानपुर और पीलीभीत लोकसभा सीट को लेकर रही जिसका पार्टी की तरफ से ओपन कर दिया गया।

पहले आमजनमानस में कयास लगाए जा रहे थे कि भाजपा इस बार सुल्तानपुर से मेनका गांधी और पीलीभीत से वरुण गांधी का टिकट काट सकती है। जिसमें सुल्तानपुर से मेनका गांधी को फिर से प्रत्याशी घोषित किया गया है।

लोगों का यह भी मानना है कि पीलीभीत से वरुण गांधी का टिकट अपनी ही सरकार विरोधी रवैये के कारण काटा गया।

अब सवाल यह उठ रहा है कि वरुण गांधी की आगे की रणनीति क्या होगी? क्या वरुण, भाजपा छोड़ेंगे या निर्दलीय तौर पर चुनाव लड़ेंगे? सवाल ये भी है कि क्या सपा-कांग्रेस वरुण को बाहर से समर्थन देंगी? इन सभी सवालों को लेकर सियासी गलियारों में काफी चर्चाएं हैं।

उसी को लेकर लोगों की राय व सूत्रों की जानकारी से यह रिपोर्ट तैयार की गई है। दरअसल पिछले दिनों वरुण गांधी के सचिव ने पीलीभीत से नामांकन पत्र खरीदा था. ऐसे में तय माना जा रहा था कि वरुण गांधी पीलीभीत से चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।राजनीतिक पंडितों की माने तो भाजपा ने मां मेनका गांधी को तो टिकट दे दिया, लेकिन बेटे वरुण का टिकट काट दिया।सियासी पंडितों का ये भी मानना है कि वरुण गांधी पीलीभीत से निर्दलीय चुनाव लड़ सकते हैं।वह अपने दम पर पीलीभीत से सियासी ताल ठोक सकते हैं।

हम आप को समझाते हैं कि भाजपा की क्या हो सकती हैं असली रणनीति,

नम्बर-1-शायद वरुण गांधी को लेकर भाजपा पार्टी कुछ नया करने जा रही हो जो किसी ने सोचा ही ना हो,

नंबर-2-दरअसल जो दिख रहा है वह असली खेल ना हो, भाजपा कुछ आने वाले समय में बड़ा करने जा रही हो जिसकी भनक किसी को नही लग पा रही हो।वह चाहे अब हो या चुनाव के बाद ही हो?

असल मे यह जो दिख रहा है वह लोगो द्वारा चर्चा भर है। लेकिन सब यह भूल भी रहे हैं कि यह भाजपा है जो सब सोचते हैं उससे उलट उसका फैसला लेती है, शायद वरुण गांधी को लेकर भाजपा पार्टी कुछ नया करने जा रही हो जो किसी ने सोचा ही ना हो, दरअसल जो दिख रहा है वह असली खेल नही है भाजपा कुछ बड़ा करने जा रही हो जिसकी भनक किसी को नही लग पा रही है। बानगी समझना हो तो हम अपने दर्शकों को याद दिला दे कि अभी हाल में ही में हुए मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के बाद सीएम की कुर्सी को लेकर भाजपा दिखा चुकी हैं आमजनमानस में सीएम की चर्चा किसी और कि और अंदर खाने से आदेश आते ही सेहरा बंधा किसी और पर जो कोई सोच भी ना सका। यह भी सभी को सोचना है कि क्या मेनका गांधी अपने पुत्र वरुण गांधी के राजनीतिक जीवन को इस तरह दांव पर लगा कर सुलतानपुर की सीट मिल जाने पर संतोष कर अपनी आंखें मूंद सकती है ?। भाजपा वरुण गांधी को लेकर शायद कुछ अलग से बड़ा करने जा रही हो,जो सबके माइंड से परे हो,वह चाहे अब हो या चुनाव बाद ?। देखना दिलचस्प होगा। नमस्कार।

*भाजपा वरुण गांधी को लेकर कुछ बड़ा किया है प्लान ,सियासी गलियारों में मच जाएगी हलचल?।*

भाजपा वरुण गांधी को लेकर कुछ बड़ा किया है प्लान ,सियासी गलियारों में मच जाएगी हलचल?।