सुलतानपुर-अब जल्द ही जिला जेल के ” मिलन केंद्र” में बंदियो से परिजनों की होगी मुलाकात,चल रहा है निर्माण कार्य।

0 63

- Advertisement -

जिला जेल के ” मिलन केंद्र” में बंदियो से परिजनों की होगी मुलाकात

गम्भीर बीमारियों से ग्रसित कैदियों की मुलाकात डॉक्टर की सलाह पर ही होगा संभव

 

सुलतानपुर । जिला जेल में बंद बंदियो -कैदियों से मुलाकात अब खुले आसमान के नीचे नहीं होगी , क्योंकि
जिला जेल के अंदर बनकर तैयार ” कैदी-बंदी मिलन केंद्र ” में बहुत जल्द ही बंदियो -कैदियों से उनकी पत्नियां, उनके बच्चे , उनके परिजन और उनके प्रियजनों की मुलाकात बड़े इत्मीनान  के साथ संभव होने जा रही है । यह सब संभव होने जा रहा है जेल अधीक्षक अनिल कुमार गौतम के सार्थक प्रयास से । श्री गौतम के इस प्रयास के बाद “बंदी-कैदी मिलन केंद्र” में बंदियो और कैदियों से मिलन का इंतजाम कराने वाला जिला कारागार सुलतानपुर प्रदेश की कुछ चुनिंदा जेलों में शुमार हो जाएगा ।
सुलतानपुर जिला जेल में बंद कैदियों, बंदियो को अब एक ऐसी सुविधा मिलने जा रही है, जिसकी चर्चा हर जगह हो रही है । इसके पहले शायद ही किसी ने इस बात की कभी कल्पना भी की होगी कि जेल में अब पति-पत्नी एकांत में बात कर पाएंगे और परिजन , प्रियजन जेल में बंद बंदियो -कैदियों से बिना किसी अतिरिक्त शुल्क दिए इत्मीनान से मुलाकात कर उनकी हालचाल जान सकेंगे । जेल अधीक्षक अनिल कुमार गौतम बताते हैं कि  जेल में कैदियों को किसी भी मिलने आने वाले वाले से शारीरिक संपर्क की इजाजत नहीं थी ।  जो भी मिलने आता था वे एक निश्चित दूरी पर खड़े होकर बात कर सकते थे । उन्होंने बताया कि जेल में बंद कैदियों और बंदियो से कई शिफ्ट में मुलाकात की व्यवस्था की जाती थी । लेकिन अब मिलन केंद्र बन जाने से ऐसा नहीं होगा । अब एक साथ सारे मुलाकातियों को जेल के अंदर बंदियो से मुलाकात का मौका मिलेगा । इससे दूर-दराज से आए हुए मुलाकातियों का समय बचेगा ।

- Advertisement -

[ जेल अधीक्षक अनिल कुमार गौतम ने बताया कि गैंगस्टर्स और ज्यादा खतरनाक कैदियों को इस तरह की मुलाकात की अनुमति  नहीं होगी । उन्होंने कहा कि नियमों के मुताबिक हाई रिस्क कैदी, गैंगस्टर्स और आतंकवादियों को इस तरह मुलाकात की सुविधा नहीं मिलेगी , साथ ही ऐसे कैदी , बंदी जिन्हें टीबी, एचआईवी या यौन संक्रमित रोग हों, उन्हें भी इस तरह से मुलाकात करने की अनुमति नहीं मिलेगी । ऐसे मामलों में जेल के डॉक्टर से क्लीयरेंस लेनी होगी और जेल में अच्छा आचरण न करने वालों और जेल का अनुशासन तोड़ने वालों को भी इसकी सुविधा नहीं मिलेगी । ऐसे कैदियों और बंदियो से मुलाकात के लिए अलग व्यवस्था की जायेगी ।