अमेठी-विकास खंड संग्रामपुर के ग्रामसभा सहजीपुर में स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय में हुआ लाखो का भ्रष्टाचार

0 234

- Advertisement -

अमेठी बिग ब्रेकिंग।विकास खंड संग्रामपुर के ग्रामसभा सहजीपुर में स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय में हुआ लाखो का भ्रष्टाचार

चंदन दुबे की स्पेशल रिपोर्ट

- Advertisement -

सरकारी धन के बंदरबाट की उच्च अधिकारियों से होनी चाहिए जांच तभी पता लगेगा कि कितने रुपया का घोटाला हुआ है।

जहा पर एक तरफ केंद्र की मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पूरे देश में स्वच्छ भारत मिशन के तहत पूरे भारतवर्ष में सरकार की तरफ से ग्रामीण क्षेत्रों में 12000 हजार की अनुमानित राशि का अनुदान देकर पूरे देश को शौचालय देना चाहती है वही पर शौचालय में बड़ा घोटाला किया गया है।

मामला अमेठी के विकास क्षेत्र संग्रामपुर के ग्रामसभा सहजीपुर के देवीदास के पुरवा जो कि अनुसूचित जाति का गांव व मोहल्ला है जहा पर शौचालय निर्माण में एक एक गड्ढे का शौचालय निर्माण कराकर लाखों की धांधली हुई है और किसी किसी शौचालय में न तो सीट लगी है और न ही छत पड़ी है।

ग्रामसभा सहजीपुर के ग्राम विकास अधिकारी और प्रधान ने मिलकर बहुत सारी शौचालय निर्माण हो चाहे इंटरलॉकिंग हो सब में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है।

वही पर गांव के सुशीला देवी जो कि रामनरेश पाण्डेय के घर की है उन्होंने बताया कि प्रधान और ठेकेदार ने मिलकर हमारा शौचालय बनवाया है जिसमे एक ही गड्ढा खोदवाया है और अभी तक उसको भी नही बनवाया है।

ग्रामीण राजपति ने बताया कि प्रधान ने हमारा शौचालय बनाया है और अभी तक छत भी नही पड़ी है और एक ही गड्डा बनवाया है।

ग्रामीण फूलकली के लड़के राजकुमार ने बताया कि हमारे शौचालय को प्रधान और ठेकेदार द्वारा बनाया गया है और अभी तक इसमे छत भी नही पड़ी है।

और ग्रामीण महिला सरोज कुमारी ने बताया कि हमारे शौचालय में एक ही गड्डा बना है और अभी तक छत भी नही बनी और न ही सीट लगी है।

ग्रामसभा में इंटरलॉकिंग का काम कराया गया है जो कि एन एच हाइवे से भादर छाछा मार्ग के बीच मे लगभग 50-60 मीटर है उस पर पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है।

महोदय सरकार के अच्छे मंसूबे के बाद भी ग्राम सचिव और ग्राम प्रधान जब सरकारी पैसे का बंदर बाट कर रहे हैं तो भगवान भरोसे ही चलेगी ग्रामसभा।

ग्रामसभा के सामाजिक कार्यकर्ता चंदन पाण्डेय ने कहा कि भ्रष्टाचार की जांच होनी चाहिए और दोषियों के ऊपर कानूनी कार्यवाही होनी चाहिए।