संग्रहालय अमूल्य धरोहर है इनमें प्राचीन मूर्तियों व पुरातात्विक चीजों के संरक्षण करने का काम किया जाता है- कुलपति  डॉक्टर देशराज उपाध्याय

0 131

- Advertisement -

संग्रहालय अमूल्य धरोहर है  डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कुलपति  डॉक्टर देशराज उपाध्याय ने कहा कि संग्रहालय की  स्थापना  महत्वपूर्ण

रिपोर्ट मनोज तिवारी केडी न्यूज़ चैनल अयोध्या

- Advertisement -

18 मई 2019

।विश्व संग्रहालय दिवस पर अंतरराष्ट्रीय रामकथा संग्रहालय नयाघाट अयोध्या द्वारा आयोजित व्याख्यान में मुख्य वक्ता के रूप में डा, राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय फैजाबाद के डॉ,देशराज उपाध्याय ने दुनिया भर के संग्रहालयों  की स्थापना से लेकर उनके महत्व पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि  संग्रहालय अमूल्य धरोहर है इनमें प्राचीन मूर्तियों व पुरातात्विक चीजों के संरक्षण करने का काम किया जाता है। हमें अपने इतिहास और पुरातत्व से बहुत सारी चीजें भविष्य के लिए मिलती हैं। प्राचीन चीजों का संरक्षण करना हम सब का कर्तव्य है। संग्रहालय बखूबी इस कार्य को करते चले आ रहे है। इस अवसर पर उन्होंने सारगर्भित लंबा वक्तव्य दिया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए नाका हनुमानगढ़ी के महन्त रामदास ने संग्रहालय के महत्व के साथ साथ अयोध्या के विभिन्न कुंडों, सागरों और मंदिरों के संरक्षण पर विशेष चर्चा की। कार्यक्रम में साकेत महाविद्यालय के पूर्व हिंदी विभागाध्यक्ष एवं साहित्य मंगलम के अध्यक्ष डॉ जनार्दन उपाध्याय ने भी अपने विचार रखें ।उन्होंने कहा कि

“हम सबकी संग्रह की प्रवृत्ति है घरों में भी संग्रहालय जैसी व्यवस्था रहती है। पुरानी से पुरानी चीजों को संग्रहित करके रखने की आदत बहुत पहले से ही चली आ रही है। संग्रहालय का महत्व बढ़ता ही जा रहा है”

कार्यक्रम मैं आशु कवि अशोक कादंबरी के अतिरिक्त अन्य युवा कवियों ने कविता पाठ किया। इस कार्यक्रम का संचालन राम दयाल त्रिपाठी ने किया। कार्यक्रम के अंत में उपनिदेशक योगेश कुमार ने आगंतुकों के प्रति आभार ज्ञापित किया।