सुलतानपुर-सीएमओ द्वारा पल्स पोलियो अभियान का शुभारम्भ महिला चिकित्सालय पोलियो बूथ से रविवार को किया जायेगा।

0 144

- Advertisement -

सीएमओ द्वारा पल्स पोलियो अभियान का शुभारम्भ महिला चिकित्सालय पोलियो बूथ से रविवार को
किया जायेगा।

पोलियो अभियान में लापरवाही बरतने वाले कार्मिकों के विरूद्ध होगी कार्यवाही – डाॅ0 सीबीएन त्रिपाठी।

- Advertisement -

सुलतानपुर 06 अप्रैल, जनपद में राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान 07 अप्रैल(रविवार) से शुरू हो रहा है। इस अभियान के तहत शून्य से 05 वर्ष तक के 3 लाख 80 हजार 145 लक्षित बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाये जाने हेतु जिले में 1116 पोलियो बूथ बनाये गये हैं। अभियान को सफल बनाये जाने हेतु 753 टीमें लगायी गयी हैं तथा 243 सुपर वाइजर तैनात किये गये हैं। बूथ दिवस पर 50 प्रतिशत बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाये जाने के निर्देश सम्बन्धित को दिये गये हैं।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ0 सी0बी0एन0 त्रिपाठी ने बताया कि राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान का शुभारम्भ 07 अप्रैल को प्रातः 09 बजे महिला चिकित्सालय पोलियो बूथ से उनके द्वारा किया जायेगा। उन्होंने बताया कि जनपद के 4 लाख 18 हजार 306 घरों का भ्रमण 753 टीमों द्वारा करके 3 लाख 80 हजार 145 लक्षित बच्चों को पोलियो की खुराक पिलायी जायेगी। उन्होंने बताया कि इस बार अभियान के प्रथम दिवस/बूथ डे पर कम से कम 50 प्रतिशत शून्य से 05 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो की खुराक दिये जाने के निर्देश टीमों को दिये गये हैं। बूथ दिवस पर प्राथमिक विद्यालयों में मध्यान भोजन भी बच्चों को दिये जायेंगे। उन्होंने बताया कि इस अभियान में लापरवाही बरतने वाले कर्मियों के विरूद्ध कार्यवाही भी की जायेगी।
सीएमओ डाॅ0 त्रिपाठी ने बताया कि रविवार को बूथ दिवस के पश्चात 05 दिन उक्त टीमें घर-घर जाकर चिन्हित शून्य से 05 वर्ष तक के प्रत्येक बच्चे को पोलियो की खुराक पिलायेगी तथा अभियान के सुपरवीजन हेतु 243 सुपर वाइजर को निर्देशित किया गया है कि अपने-अपने क्षेत्र में पोलियो की खुराक दिये जाने पर पैनी नजर रखें। उन्होंने बताया कि अभियान को सफल बनाने के लिये समस्त प्रभारी चिकित्सा अधिकारी/चिकित्सा अधीक्षक को निर्देशित किया गया कि अपने-अपने क्षेत्रों में बूथ दिवस पर भ्रमण कर अधिक से अधिक बच्चों को पोलियो की खुराक पिलवायें तथा 05 दिन घर-घर भ्रमण के दौरान भी स्वयं औचक निरीक्षण कर फीडबैक प्राप्त करें। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन इस अभियान की मानीटरिंग स्वयं करें और रिपोर्ट उन्हें भी नियमित रूप से उपलब्ध करायें। इस अभियान को सफल बनाने के लिये जिला प्रतिरक्षण अधिकारी सहित उप मुख्य चिकित्सा अधिकारीगण तथा अन्य विभागीय अधिकारी क्षेत्रों में भ्रमण कर शतप्रतिशत बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाये जाने में नजर रखेंगे।