अमेठी।नगर पंचायत अमेठी में भूमि पूजन के बाद भी नहीं बना बारात घर

0 490

- Advertisement -

अमेठी।नगर पंचायत अमेठी में भूमि पूजन के बाद भी नहीं बना बारात घर

अमेठी।भारत सरकार की तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय स्मृति इरानी के कर कमलो से डा0 भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर 14 अप्रैल 2018 दिन रविवार को बारातघर का भूमि पूजन किया।नगर पंचायत अमेठी जनपद अमेठी के अन्तर्गत वार्ड नं0 1 में रायपुर फुलवारी में स्थित बारात घर के भूमि पूजन के बाद नगर पंचायत की चेयर मैन चन्द्रमा देवी और अधिशाषी अधिकारी भी बारात घर के निर्माण में रूचि नहीं ली जिसके चलते योजना को लेकर जहां लोगों में खुशी थी वहीं अब मायूसी में तबदील हो रही है।इस बारात घर के भूमि पूजन कार्यक्रम में राजेश कुमार अग्रहरि(राजेश मसाला)संयोजक उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी व्यापार प्रकोष्ठ की अध्यक्षता में 14 अप्रैल 2018 दिन रविवार को भूमि पूजन का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ था।

- Advertisement -

इस मौके पर लिपिक नगर पंचायत अमेठी विपिन तिवारी भी रहे। जिनका शिलापटट में नाम अंकित है।

इस बारात घर के भूमि पूजन कार्यक्रम में नगर पंचायत के सभी सभासद भी साक्षी के रूप में लगे शिलापट पर मौजूदगी दर्शाई गई है।

सभासद अरूण कुमार अग्रहरि उर्फ चुन्नू ने बताया कि नगर पंचायत में वार्ड नं 01 में फिरहाल बारातघर का निर्माण अभी तक नहीं होने की खबर है।

बारातघर को लेकर लोगों में खुशी थी लेकिन क्यों नहीं बना और उसकी समय सीमा क्या है।इस बारे में जानकारी नहीं है शिलापट तो लगा दिया गया लेकिन निर्माण कब होगा इसके बारे में जानकारी नहीं मिल पा रही है।

उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मण्डल अमेठी के जिलाध्यक्ष हरिशंकर जायसवाल ने बताया कि नगर में शिलान्यास की सरकार है।

शिलापट लगाने के पहले नगर पंचायत और सरकार के मंत्री ने गंभीरता से नहीं लिया जहां पर शिलान्यास हुआ वह अनूसूचित जाति की बस्ती के लिए सुरक्षित जमींन है।जिसपर शिलान्यास तो नगर पंचायत की अध्यक्ष ने करा दिया लेकिन निर्माण क्यों नहीं कराया यह बात समझ में क्यों नहीं आती जबकि नगरवासी बताते हैं कि दलितों में इस बारातघर के बनने से नाराजगी है।इस नाते नगर पंचायत बरात घर बनवाने से कन्नी काट रही है।

अधिशाषी अधिकारी नगर पंचायत अमेठी सेवाराम राजभर ने दूरभाष पर बताया कि अभी बारातघर का निर्माण नहीं हो पाया। जबकि उनसे सवाल हो क्यों निर्माण नहीं हुआ जबकि शिलान्यास 14अप्रैल 2018 को केन्द्रीय मंत्री स्मृति जुबिन इरानी ने किया था तो उन्होंने बताया कि अभी भूमि उपलब्ध नहीं हो पायी है जिस नाते बारातघर का निर्माण नहीं हो पाया है।