अमेठी।जर्जर हुआ अमेठी के ब्लाक भेटुआ का बाल विकास परियोजना अधिकारी कार्यालय,नही पड़ रही नजर

0 305

- Advertisement -

♦अमेठी।जर्जर हुआ अमेठी के ब्लाक भेटुआ का बाल विकास परियोजना अधिकारी कार्यालय,नही पड़ रही नजर

अमेठी से चंदन दुबे की रिपोर्ट

 

- Advertisement -

अमेठी।अमेठी के भेटुआ ब्लाक के बाल विकास परियोजना का कार्यालय एकदम जर्जर हालत में है कभी भी किसी न किसी खतरे को अंजाम देने के लिए तैयार है।

जिसके अन्तर्गत सरकारें देश से कुपोषण का सफाया करने का दंभ भरती हैं, भरें भी क्यों न परियोजना लागू होने के बाद से कुपोषण को कम करने में मिल रही सफलता से ऐसा होना जायज भी है।

लेकिन क्या बाल विकास परियोजना के प्रति सरकारें जिम्मेदारी का निर्वहन भी ठीक ढंग से करती?विकास खंड भेटुआ का बाल विकास परियोजना अधिकारी कार्यालय देख कर ऐसा तो नहीं प्रतीत होता।कारण जिस कार्यालय के ऊपर पूरे विकासखंड के कुपोषण को खत्म करने का दायित्व है जिम्मेदारों की गैर जिम्मेदाराना कार्यशैली के चलते वही बाल विकास परियोजना अधिकारी कार्यालय खुद ही कुपोषित सा नजर आने लगा है। चार कमरों और एक बरामदे की शक्ल में बना यह कार्यालय फर्श विहीन,खिड़की विहीन, रंगरोगन विहीन हो ऐसा लगता है जैसे यह किसी ब्लाक स्तरीय अधिकारी का नहीं बल्कि बिन मालिक के वर्षों से बंद पड़ी कोई बदसूरत इमारत हो। मजे की बात यह है कि विकास खंड कार्यालय परिसर में ही मौजूद होने के बाद भी मंडलायुक्त,जिला अधिकारी से लेकर जनपद के तमाम बड़े अधिकारी जो अपने दौरे में विकास खंड अधिकारी कार्यालय पहुंचते हैं उन्हें बाल विकास परियोजना अधिकारी कार्यालय या तो दिखता नहीं या फिर वे जान बूझ कर अपनी आंखें बंद कर लेते हैं। शायद इसी वजह से आज तक,कुपोषण को खत्म करने के लिए कृतसंकल्प बाल विकास परियोजना अधिकारी कार्यालय खुद ही कुपोषित नजर आ रहा है।