KD NEWS LIVE

Kdnews-“इस प्यार को क्या नाम दूं” यह गाना इस कहानी पर सटीक बैठ रहा है, देखे सनसनीखेज मामला।

0 619

मां ही बन गई रिस्ते में साली .., यह सुनकर आप हैरान रह जाएंगे, लेकिन झारखंड के एक युवक की ऐसी लव स्टोरी सामने आई है जो रिश्तों की उलझी हुई स्थिति बताती है।

चतरा के रक्सी गांव के रहने वाले सोनू राणा ने अपनी ही मौसी को जीवन संगिनी बना लिया. हैदराबाद में प्राइवेट कंपनी में काम करने वाले सोनू ने मौसी के साथ हेरुआ नदी किनारे स्थित शिव मंदिर में प्रेम विवाह किया।

दरअसल, हैदराबाद में प्राइवेट कंपनी में काम करने वाले एक शख्स ने अपनी मौसी के साथ प्रेम विवाह कर सबको हैरत में डाल दिया है। अपनी ही मां को साली बना बैठे इस युवक का पिता उसका साढ़ू बन गया. जब वह शख्स गांव लौटा तो ग्रामीण इस रिश्ते को मंजूरी देने को तैयार नहीं हुए।ऐसे में प्रेमी जोड़े को पुलिस की शरण में जाना पड़ा।

 मां की बहन यानी मौसी, मौसी यानी मां सी या मां जैसी… मौसी को समाज में मां के बराबर का ही दर्जा दिया गया है. लेकिन अगर किसी को अपनी मौसी से ही प्यार हो जाए और नौबत शादी तक पहुंच जाए, तो आप क्या कहिएगा. है न हैरान करने वाली बात! झारखंड के चतरा में ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जहां एक बेटा अपनी मौसी के साथ प्यार कर बैठा. यही नहीं उसने मौसी के साथ शादी भी कर ली और पिता का साढ़ू बन बैठा. यानी देखा जाए तो अगर मौसी से शादी की तो उसकी मां ही उस शख्स की साली हो गयी।

रिश्तों के उलझन की यह अजीबो-गरीब कहानी क्या है, आइए पढ़ते हैं

है न रिश्तों की यह उलझी कहानी! मामले के बारे में बताया जा रहा है कि उस शख्स का अपनी मौसी के साथ पिछले एक साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था, जिसकी परिणति बीते दिनों शादी के रूप में सामने आई है।

 मां की बहन के साथ शादी करने की सूचना जैसे ही सोनू के घरवालों और ग्रामीणों को मिली, सब पहले तो भौचक्के रह गए। ग्रामीणों ने इस रिश्ते का पुरजोर विरोध किया, तो नवविवाहित प्रेमी जोड़े के सामने घर से भागने की नौबत आ गई। घरवालों और ग्रामीणों से छुपकर अब दोनों ने सदर थाने में शरण लिया है. युवक और युवती दोनों बालिग हैं, इसलिए पुलिस ने भी दोनों के परिजनों को बुलाकर समझाया.
मौसी के साथ प्रेम विवाह का मामला पुलिस में जाने के बाद भी लड़का और लड़की के परिजन नहीं मान रहे हैं. वहीं, प्रेमी युगल साथ रहने की जिद्द पर अड़ा है।
दोनों के घरवालों ने पुलिस के सामने भी इस शादी को असामाजिक करार दिया और रिश्ते को मान्यता देने से इनकार कर दिया।पुलिस ने किसी तरह घरवालों को समझाया।इसके बाद सभी की मौजूदगी में एक बॉन्ड भरवाकर प्रेमी जोड़े को घर भिजवाया।

सुल्तानपुर-अपनी भाषा मे खग विहग बोलते, मेरा गांव शहर हो जाये ऐसा कभी ना हो जैसे अनगिनत कविता ग़ज़ल को लिखने वाले मशहूर कवि डॉ डीएम मिश्र से हुई मुलाकात,अबधी तक के सौजन्य से देखे जबरदस्त इंटरब्यू।

अपडेट खबरों के लिए अवधी तक और kd news up यूट्यूब चैनल को करें सब्सक्राइब।


सुल्तानपुर-अपनी भाषा मे खग विहग बोलते, मेरा गांव शहर हो जाये ऐसा कभी ना हो जैसे ग़ज़ल लिखने वाले मशहूर कवि डॉ डीएम मिश्र का देखे अबधी तक के सौजन्य से जबरदस्त इंटरब्यू।

Leave a Reply

%d bloggers like this: