BARABANKI :-मतदान में दिव्यांगों की सहायता के प्रशासन के दावे फेल , बूढ़े और दिव्यांगों को नहीं मिली सहायता

0 18

- Advertisement -

STORI BARABANKI :-मतदान में दिव्यांगों की सहायता के प्रशासन के दावे फेल , बूढ़े और दिव्यांगों को नहीं मिली सहायता

बाराबंकी के पोलिंग बूथ पर आज प्रशासन के दावे फेल होते दिखाई दिए , यहाँ प्रशासन ने दावा किया था कि बूथ पर दिव्यांग और बूढ़े मतदाताओं की सहायता मतदान के लिए उपलब्ध कराई जाएगी मगर बूथों पर जो नज़ारा दिखा वह प्रशासन के दावों को मुँह चिढ़ाने वाला रहा ,यहाँ दिव्यांग और बूढ़े और असहाय व्यक्ति मतदान करने पहुंचे जरूर मगर खुद अपनी सहायता से न कि प्रशासन की सहायता से |

- Advertisement -

असहाय मतदाताओं को सहायता न मिलने का नज़ारा सामने आया है बाराबंकी जनपद से पहला नज़ारा यहाँ के सिद्धौर विकास खण्ड के सेरसा गाँव का जहाँ एक दिव्यांग बड़ी मुश्किल से अपना मतदान करने बूथ पर पहुँचा | तस्वीरों में साफ़ दिखाई दे रहा है कि यह दिव्यांग किस मुश्किल से अपना पैर घसीटते हुए मतदान पर पहुंचा और अपना मतदान किया |

दूसरी तस्वीर बाराबंकी के सूरतगंज विकासखण्ड इलाके के अमेरा गाँव से आयी हैं जहाँ एक अतिवृद्ध दम्पत्ति राण जियावन और नन्दरानी अपने दम पर लड़खड़ाते हुए बूथ पर पहुंचे और अपना मतदान किया | राण जियावन की उम्र की बात करें तो उनकी उम्र 119 वर्ष है तो वहीँ इनकी पत्नी नंदरानी की उम्र 105 वर्ष है | इतनी उम्र के बाद भी वह मतदान केंद्र साथ -साथ पहुंचे और अपने मतदाता और जिम्मेदार नागरिक होने का धर्म निभाया | इस दौरान इस दंपत्ति ने सबसे अनिवार्य मतदान करने की अपील की |

बाईट – नंदरानी , राम जियावन ( बुजुर्ग दम्पत्ति )

रिपोर्टर सैफ मुख्तार